ये 4 जड़ी बूटी कैंसर के दर्द को कम कर सकती हैं

वैसे तो हम सभी जानते हैं कि कैंसर क्या है, फिर भी बता दें की कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसमें शरीर का हर अंग कमजोर पड़ता जाता है, और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती जाती है। शरीर का हर हिस्सा अन्दर से मनो सड़ने लगता है और चेहरे की रंगत चली जाती है और व्यक्ति बुढा लगने लगता है। इस बिमारी में असहनीय दर्द होता है, आज इस दर्द को कम करने में सहायक चार चीजों के बारे में बात करेंगे।

दुनिया के हर घर में चार ऐसी चीजें हैं या कहें कि ऐसी जड़ी बूटियां है, जिनके बारे में हमने शायद सोचा भी नहीं होगा कि वह कैंसर जैसी बीमारी में होने वाले दर्द को किसी हद तक कम भी कर सकती हैं। तो आज हम इसी बारे में बात करने वाले हैं और मैं आपको बता दूं की सबसे पहली जो जड़ी बूटी है वह भारत के हर घर के किचन में मिलेगी जिसे हम कहते हैं हल्दी। हल्दी का सेवन अगर रोज किया जाए उचित मात्रा में तो उससे आपको काफी कुछ फायदा होगा दर्द में क्योंकि हल्दी में बहुत सारे एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टी है, जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, और इन्फेक्शन कम करने में मदद मिलती है। आप कहेंगे की इसे लेना कैसे है, तो आप इसे सुबह खाली पेट कुनकुने पानी से २ रत्ती लें और रात को सोते समय भी इसी प्रकार लें. आपको आराम महसूस होने लगेगा।

दूसरा जो है वह है पपीता जो हमें हिंदुस्तान में कहीं भी सब्जी मंडी में या फ्रूट मार्केट में आसानी से मिल जाता है। पपीता भी बहुत मददगार है यह कैंसर के ट्यूमर सेल्स की ग्रोथ को कम करता है, और उनकी रोकथाम करने में सहायता करता है, जिससे कि शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता बेहतर हो सके और यह जो फल है इसको खाने से या उसको चेहरे पर लगाने से रेडिएशन का भी असर कम पड़ता है।

अब आता है जिंजर यानी कि अदरक जो हर किचन में आसानी से चाहे वह हिंदुस्तान हो जाए दुनिया का कोई भी कोना हो, शायद ही कोई ऐसा किचेन होगा जहां पर अदरक ना मिलती हो। अदरक के अंदर बहुत सारी ऐसी प्रॉपर्टीज है ऐसी खासियत है जो कैंसर में होने वाले दर्द को कम करती है और जो मॉलिक्यूल्स दर्द देते हैं उनको भी कम करती है, जब पेट में हमें बदहजमी होती है तो उसमें भी यह काफी मददगार है। अदरक को हम ग्रीन टी के साथ ले सकते  हैं, इससे भी कैंसर में होने वाले दर्द में काफी मदद मिलेगी।

अब है पानी जी हां साधारण सा दिखने वाला, रोज काम में आने वाला, जिसे हम पीते हैं वह पानी। यह कोई जड़ी बूटी भले ही ना हो पर पानी कीमोथैरेपी में जाने वाले मरीजों के लिए बहुत ही आवश्यक चीज है। कीमोथैरेपी में शरीर पानी छोड़ने लगता है इसके लिए हमें रेगुलरली लगातार पानी पीते रहना चाहिए इससे कि जो भी हमारे शरीर के अंदर टॉक्सिंस है जो हमारी नसों में जो टॉक्सिक मल है, हमारी किडनी में जो टोक्सिंस है, उनको निकालने में उन को कम करने में बहुत फायदा होता है।

disclaimer : इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी आपको विकल्प बताना है,और जानकारी देना है। हम कोई डॉक्टर नहीं है, कृपया अपने डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें ।

ऐसी ही और रोचक जानकारी और स्वस्थ से जुडी खबरों को जानने के लिए technliving.com को सब्सक्राइब करना न भूलें यह मुफ्त है।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest